Aesthetic Blasphemy

a million little things...

Link to The bud and the flower
The bud and the flower

फूल से बोली कली क्यों व्यस्त मुरझाने में है फ़ायदा क्या गंध औ मकरंद बिखराने में है तूने अपनी उम्र क्यों वातावरण में...

Posted on: Jan. 3, 2016 Read More
Link to Acquaintances
Acquaintances

पूछती हो जब मिलती हो, ख्यालों में या किस्सों में, या सपनों की किश्तों में, हमारे बीच क्या है? सुनो! मेरा और...

Posted on: Dec. 13, 2015 Read More
Link to Catching up
Catching up

You know, I am a small ball. And the world is a big ball. That's quite an opposite but I want contrast, not just a...

Posted on: Dec. 5, 2015 Read More