Aesthetic Blasphemy

a million little things...

Link to imagining familiarity
imagining familiarity

मैं तो मर जाऊं अगर सोचने लग जाऊं उसे, और वोह कितनी सहूलत से मुझे सोचती है, कितनी खुश-फहम है वो शख्स के हर मौसम ...

Posted on: Feb. 16, 2014 Read More