Aesthetic Blasphemy

a million little things...

Link to I feel the fire (Hindi)
I feel the fire (Hindi)

दीप जला जाता है जाड़े की सुनसान रातों में, जब ठिठुरन के मारे दुबके से कुत्ते भी, अंजान राहगीरों पर नहीं...

Posted on: March 6, 2014 Read More
Link to The canvas of soot burns (Hindi)
The canvas of soot burns (Hindi)

आज यों ही पूजा का दिया जलाते हुए बचपन में दिए जलाना याद आ गया | छोटी उम्र में कोई कितना जिज्ञासु या शरारती रहा होगा,...

Posted on: Feb. 20, 2014 Read More
Link to Lighting Candles on a dark night(Hindi)
Lighting Candles on a dark night(Hindi)

कल्पना के हाथ से कमनीय जो मंदिर बना था भावना के हाथ ने जिसमें वितानों को तना था स्वप्न ने अपने करों से था जिसे...

Posted on: Feb. 19, 2014 Read More
Link to imagining familiarity
imagining familiarity

मैं तो मर जाऊं अगर सोचने लग जाऊं उसे, और वोह कितनी सहूलत से मुझे सोचती है, कितनी खुश-फहम है वो शख्स के हर मौसम ...

Posted on: Feb. 16, 2014 Read More