Aesthetic Blasphemy

a million little things...

Link to The bud and the flower
The bud and the flower

फूल से बोली कली क्यों व्यस्त मुरझाने में है फ़ायदा क्या गंध औ मकरंद बिखराने में है तूने अपनी उम्र क्यों वातावरण में...

Posted on: Jan. 3, 2016 Read More
Link to Ek sawaal (Prashn)
Ek sawaal (Prashn)

एक सवाल जब दिया जलता है, तब मैं किसको देखूं? दीप की लौ को, या उसके प्रकाश से दिखने वाली भगवान् की सूरत को? बड़ा...

Posted on: Dec. 19, 2014 Read More
Link to Peepal ke pret (Hindi)
Peepal ke pret (Hindi)

पीपल के प्रेत उस पीपल के पेड़ की ठूंठ में मैं कभी कभी धागों की डोर बाँध आया करता था। कुछ सवाल, कुछ अधूरी बातें, कुछ...

Posted on: Nov. 6, 2014 Read More
Link to In a game.
In a game.

Let us play a game, you and me, 'The game', for it is hard to name You bring your tool, your heart to fore, and I...

Posted on: Aug. 9, 2014 Read More